12.2.10

भोले बाबा और नेताजी

आज महा शिवरात्रि है. देवों के देव महादेव के इस पर्व पर हमारे प्रेम पत्रकार ने एक परम शिवभक्त नेता जी का साक्षात्कार लिया.
(नोट-नेताजी ने भगवान शंकर जी का प्रसाद लिया हुआ था)
प्रस्तुत है कुछ झलकियां
- जय शंकर नेता जी
- जय शंकर जय शंकर प्रेम जी, आइये, विराजिये.
- धन्यवाद जी,और कैसे चल रही है आपकी राजनीति.
- अजी कृपा है भोले बाबा की.आप सुनाईये
- नेता जी आप भोले बाबा के परम भक्त कहाते है.आज महा शिवरात्रि के पावन अवसर पर आपसे पूछना चाहूंगा कि आपने शिव बाबा से क्या क्या सीखा?
- अजी वही तो हमारे प्रेरेणा स्त्रोत हैं
- कैसे?
- हमारे भोले बाबा, भक्त जो चाहे मांगे, विचारते नहीं, दे देते हैं. हम भी भोले बाबा जैसे ही हैं.अब देखिये ठेकेदार, सप्लायर, रिश्तेदार-नातेदार, हमारे पक्ष के साथी आदि आदि इतने लोग हमसे कुछ न कुछ मांगते ही रहते है और हम भी परिणाम की चिंता किये बिना प्रदान कर देते हैं.
- वे तो हलाहल विष धारण कर नील-कंठ कहाते है.
- हमने भी तो विपक्ष-मिडिया के आरोपों को विष समझ गले से नीचे उतरने ही नहीं दिया.
- उनके भाल पर चंद्र देव शोभित हैं
- हमारे सिर पर भी पद का मुकुट है.
- वो सर्प की माला पहनते हैं.
- हम भी तो राजनीति में आवश्यकता पड़ने पर विपक्ष को गले लगाते हैं.
- उनके साथ भूत-पिशाचों की सेना है.
- हम भी कुछ इसी प्रकार की सेना रखते हैं जो चुनावों के समय दृष्टिगोचर होती है.
- उनका वाहन नंदी है.
- हम भी नौकरशाही की सवारी करते हैं.
- वह समाधि भी लगाते हैं
- अजी हम भी विपक्ष में आने पर बहुत तपस्या करते हैं.
- वह कैलाश पर रहते हैं
- हम भी तो ए.सी. में रहते हैं.
- उन्होनें कामदेव को भस्म किया था.
- हम भी फाईलें भस्म करते हैं.
- वह भांग-धतूरा पचा लेते हैं.
- हम भी बहुत कुछ पचा लेते हैं.
- वह तीसरा नेत्र रखते हैं
- हम भी सी.बी.आई.रखते हैं.
- वह डमरू बजाते हैं
- हमारा पालतू मिडिया भी बहुत बजता है.
- वह त्रिशूल रखते हैं
- हम भी अपने पास कायदे-कानून रखते हैं.
- वह तांडव करते हैं
- अजी आपको लोक-सभा आने का सौभाग्य प्राप्त नहीं हुआ क्या? कभी आईये न.
- उन्होनें एक समय अपने ससुर का संहार किया था.
- अजी तो सत्ता में आने के बाद हम जनता जनार्दन के साथ क्या करते हैं?
......................
- अजी कुछ और पूछिये
......................
???????

3 टिप्‍पणियां:

  1. महाशिवरात्रि पर सुंदर प्रस्‍तुति .. नेता जी का बहुत बढिया साक्षात्‍कार !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया है!

    महाशिवरात्री की आपको बहुत शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. गजब गुरू गजब। व्यंग कैसा हो..हम कहते हैं भोले बाबा और नेताजी जैसा हो। अविराम करें ब्लॉगिंग। इस बहाने हमारा आना जाना बना रहेगा।

    जय हिन्द, इंकलाब जिन्दाबाद।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी हमारी प्रेरणा

 
चिट्ठाजगत IndiBlogger - The Indian Blogger Community
www.blogvani.com